कृषि कानूनों के खिलाफ कल दो करोड़ हस्ताक्षरों वाला ज्ञापन राष्ट्रपति को सौंपेंगे राहुल

कृषि कानूनों के खिलाफ कल दो करोड़ हस्ताक्षरों वाला ज्ञापन राष्ट्रपति को सौंपेंगे राहुल

नई दिल्ली। कृषि कानूनों के खिलाफ कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने नेतृत्व में कल सुबह 10:45 बजे दिल्ली में विजय चौक से राष्ट्रपति भवन तक मार्च का आयोजन किया गया है। इसमें कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पार्टी के सांसद भाग लेंगे।

कांग्रेस नेता राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात कर कृषि कानूनों के खिलाफ दो करोड़ हस्ताक्षरो के साथ एक ज्ञापन भी सौंपेंगे। कृषि कानूनों के खिलाफ कांग्रेस ने देशभर से दो करोड़ लोगों के हस्ताक्षर जुटाए हैं।

कृषि कानूनों के खिलाफ अभी हाल ही में विपक्ष के नेताओं ने राष्ट्रपति रामनथ कोविंद से मुलाकात कर इन कानूनों को रद्द करने की मांग की थी। पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और राष्ट्रवादी कांग्रेस के अध्यक्ष शरद पवार के नेतृत्व में विपक्ष के एक प्रीतिनिधिमडंल ने राष्ट्रपति को ज्ञापन भी सौंपा था।

भ्रम फैला रही कांग्रेस: बीजेपी

कांग्रेस द्वारा कल किया जा रहे विरोध मार्च के आयोजन पर मध्य प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर किसानो के बीच भ्रम फैलाने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी जी ने ट्रैक्टर पर सोफा लगाकर किसानों के मुद्दे की शुरुआत की थी। वे किसानों की ठगी बंद करें। जिसे वे काला कानून कह रहे हैं उसमें काला क्या है मैं आज तक नहीं समझ पाया। ये टुकड़े-टुकड़े गैंग है जो भ्रम फैला रही है।

ये भी पढ़ें:  पंजाब के 11 जिलों में किसान रविवार को 3 घंटे के लिए रेल पटरियां जाम करेंगे

किसान आंदोलन 28वे दिन भी जारी:

कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर किसानो द्वारा शुरू किया गया आंदोलन आज बुधवार को भी जारी है। आज किसान नेता चौधरी चरण सिंह की जयंती के अवसर पर किसान दिवस मना रहे किसानो ने गाज़ीपुर बॉर्डर पर हवन किया।

सिंघु (दिल्ली-हरियाणा) बॉर्डर पर भी कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी है। एक प्रदर्शनकारी ने बताया, “जो चिट्ठी सरकार ने भेजी है आज उसका जवाब दिया जाएगा। हम 24 घंटे बात करने के लिए तैयार हैं लेकिन वे बात नहीं करना चाहते क्योंकि उनके मन में खोट है।

कृषि कानूनों के खिलाफ टिकरी बॉर्डर पर किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी है। प्रदर्शनकारी ने बताया,”किसान दिवस पर मैं मोदी सरकार को एक ही बात बोलना चाहता हूं कि कृषि कानूनों को वापस लेकर हमें आज ये गिफ्ट में दें क्योंकि अबका किसान पढ़ा-लिखा है उन्हें इस कानूनों के बारे में पता है।”

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें

TeamDigital