पीएम मोदी के बयान पर कांग्रेस का पलटवार, ‘यूपी चुनाव आते ही याद आया विभाजन’

नई दिल्ली। देश के 75वे स्वतंत्रता दिवस से एक दिन पहले 14 अगस्त को ‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस’ के रूप में मनाए जाने पर पीएम मोदी द्वारा विभाजन को लेकर दिए गए बयान पर कांग्रेस ने निशाना साधा है।

गौरतलब है कि शनिवार को पीएम मोदी ने घोषणा की कि 14 अगस्त को लोगों के संघर्षों और बलिदान की याद में विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस के रूप में मनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि बंटवारे के दर्द को कभी भी भुलाया नहीं जा सकता। विभाजन के चलते सामने आई नफरत और हिंसा की वजह से हमारे लाखों बहनों और भाइयों को विस्थापित होना पड़ा।

कांग्रेस ने पीएम पर आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री पहले पाकिस्तान को उसके स्वतंत्रता दिवस और राष्ट्रीय दिवस पर बधाई देते हैं। फिर उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के नजदीक आने पर विभाजन को याद करते हैं।

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि भाजपा के ‘विभाजनकारी छल-कपट’ की पोल अब खुल चुकी है। सुरजेवाला ने प्रधानमंत्री के एक पुराने ट्वीट और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान को लिखे गए उनके पत्र को साझा करते हुए ट्वीट किया, ‘विभाजनकारी छल-कपट की पोल खुली, अब देश को नही बरगला सकते। 22 मार्च को पाकिस्तान को बधाई। याद रहे 22 मार्च वो दिन है जब मुस्लिम लीग ने (22 मार्च, 1940) बंटवारे का प्रस्ताव पारित किया था। पिछले 14 अगस्त को भी पाक को बधाई। उत्तर प्रदेश का चुनाव आते ही विभाजन की याद आई। वाह साहेब!’

ये भी पढ़ें:  राहुल गांधी का बड़ा वादा: गुजरात में सरकार बनी तो बहाल करेंगे पुरानी पेंशन योजना

सुरजेवाला ने प्रधानमंत्री का जो ट्वीट साझा किया, वह 14 अगस्त, 2015 का है। इसमें उन्होंने पाकिस्तान को स्वतंत्रता दिवस की बधाई दी है। सुरजेवाला ने जिस पत्र का हवाला दिया, वह प्रधानमंत्री ने अपने पाकिस्तानी समकक्ष को वहां के ‘राष्ट्रीय दिवस’ पर लिखा था।

वहीँ कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने कहा कि प्रधानमंत्री को यह घोषणा करने से पहले इस पर माफी मांगनी चाहिए थी कि उनके ‘वैचारिक पूर्वजों’ और मुस्लिम लीग के कारण ही देश का बंटवारा हुआ।

खेड़ा ने दावा किया, ‘इनके वैचारिक पूर्वजों और मुस्लिम लीग ने मिलकर जो माहौल बनाया था उस वजह से बंटवारा हुआ। इन्हें पहले माफी मांगनी चाहिए।’ उन्होंने कहा, ‘बंटवारे के समय मेरे परिवार के 14 सदस्य मारे गए थे। ये कौन होते हैं हमारी टीस दूर करने वाले? इनकी वजह से मेरी टीस है और आज यह टीस फिर बढ़ रही है।’

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें