लोक जनशक्ति पार्टी में उठापटक जारी, चुनाव आयोग पहुंचे चिराग

नई दिल्ली। लोक जनशक्ति पार्टी में अभी भी उठापटक जारी है। पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने चुनाव आयोग का रुख किया है। चिराग पासवान ने अपने चाचा पशुपति पारस पासवान के लोक जनशक्ति पार्टी का अध्यक्ष चुने जाने को खारिज कर दिया है।

चुनाव आयोग पहुंचे चिराग पासवान ने चुनाव आयोग से मुलाकात के बाद मीडिया से बात करते हुए कहा कि आज लोजपा के 5 सदस्यों के एक प्रतिनिधिमंडल ने चुनाव आयोग से मुलाकात की। हमने आयोग के सामने अपनी बातें रखी। हमने उनके संज्ञान में दिया कि 2019 में लोजपा ने राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव हुआ और मुझे ज़िम्मेदारी दी गई, हर 5 साल में राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव होता है।

उन्होंने कहा कि कुछ लोगों को पार्टी से निलंबित किया गया है जिसमें 5 सांसद, 2 प्रदेश अध्यक्ष, 1 राष्ट्रीय महासचिव, 1 हमारी प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं। ये लोग कहीं न कहीं पार्टी के नाम पर दावा करने का प्रयास कर रहे हैं। इसलिए हम चुनाव आयोग के सामने आए हैं।

लोजपा के नवनिर्वाचित राष्ट्रीय अध्यक्ष पशुपति कुमार पारस ने दिल्ली में कहा कि मेरा निर्वाचन केवल सर्वसम्मति से हुआ है। लोजपा के राष्टीय अध्यक्ष के निर्वाचन के लिए मुझे रिटर्निंग अधिकारी के द्वारा चिट्ठी मिली है। जिसे आज हम चुनाव आयोग के दफ़्तर में जमा कर देंगे। प्रधानमंत्री तय करते हैं कि किसे मंत्री पद देना है।

ये भी पढ़ें:  PFI : एनआईए का दावा, 'युवाओं को भड़काकर आतंकी समूहों में भर्ती कराने की थी कोशिश', जानिए पूरी सच्चाई

उन्होंने कहा कि लोक जनशक्ति पार्टी के संविधान के तहत चिराग पासवान अब पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नहीं रहे, सदन के नेता नहीं रहे। पार्टी के संविधान के तहत कल चुनाव हुआ, जो वैध है। चिराग पासवान को संविधान की जानकारी नहीं।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें