सरकार के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार ने दी कोरोना की तीसरी लहर की चेतावनी

नई दिल्ली। केंद्र सरकार के प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार के विजयराघवन ने देश में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर को लेकर चेतावनी दी है। बुधवार को एक प्रेस वार्ता में विजयराघवन कहा कि हमें कोरोना संक्रमण की आने वाली लहरों के लिए अभी से तैयारी शुरू कर देनी चाहिए।

उन्होंने चेतावनी दी कि जिस तरह तेजी से वायरस का प्रसार हो रहा है कोरोना महामारी की तीसरी लहर आनी तय है, लेकिन यह साफ नहीं है कि यह तीसरी लहर कब और किस स्तर की होगी।

प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार ने वायरस के नए वेरिएंट्स को लेकर कहा कि कोरोना वायरस के विभिन्न वेरिएंट मूल स्ट्रेन की तरह की फैलते हैं। ये किसी अन्य तरीके से फैल नहीं सकते। वायरस के मूल स्ट्रेन की तरह यह मनुष्यों को इस तरह संक्रमित करता है कि यह शरीर में प्रवेश करते समय और अधिक संक्रामक हो जाता है और अपने और अधिक प्रतिरूप बनाता है।

उन्होंने कहा कि वर्तमान वेरिएंट्स के खिलाफ वैक्सीन प्रभावी हैं। नए वेरिएंट भारत के साथ पूरी दुनिया में सामने आएंगे लेकिन ऐसे वेरिएंट ज्यादा होंगे जो अधिक संक्रामक होंगे। उन्होंने कहा कि भारत और पूरी दुनिया के वैज्ञानिक इस प्रकार के वेरिएंट्स का पूर्वानुमान लगाने और उनके खिलाफ काम करने के लिए चेतावनी और संशोधित टूल विकसित करके तेजी से काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह एक गहन शोध का प्रोग्राम है जो भारत और अन्य देशों में चल रहा है।

ये भी पढ़ें:  गुवाहाटी : असम में इस साल ‘हरित’ दुर्गा पूजा की धूम

वहीँ पिछले 24 घंटे में देश में कोरोना संक्रमण के 3,82,315 नए मामले आने के बाद कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या 2,06,65,148 हुई। 3,780 नई मौतों के बाद कुल मौतों की संख्या 2,26,188 हो गई है। देश में सक्रिय मामलों की कुल संख्या 34,87,229 है और डिस्चार्ज हुए मामलों की कुल संख्या 1,69,51,731 है।

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के मुताबिक भारत में कल तक कोरोना वायरस के लिए कुल 29,48,52,078 सैंपल टेस्ट किए जा चुके हैं, जिनमें से 15,41,299 सैंपल कल टेस्ट किए गए।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें