पश्चिम बंगाल: राज्यपाल को दिखाए गए काले झंडे, राज्यपाल ने ममता सरकार पर फोड़ा ठीकरा

कोलकाता। पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनकड़ को आज गोलोकगंज में उस समय लोगों ने सड़क के दोनों तरफ खड़े होकर काले झंडे दिखाए जब उनका काफिला मथभंगा से सीतलकूची जा रहा था।। इस दौरान लोगों ने सड़क के दोनों तरफ मानव शृंखला बनाकर राज्यपाल गो बैक के नारे भी लगाए।

इस घटना के बाद पश्चिम बंगाल में राजभवन और राज्य सरकार एक बार फिर आमने सामने आ गए हैं। जहां काले झंडे दिखाए जाने की खिसियाहट राजयपाल ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का नाम लिए बिना राज्य सरकार पर उतारी वहीँ मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राज्यपाल के कूचबिहार दौरे की निंदा की।

गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल के राज्यपाल चुनाव के बाद हुई हिंसा से प्रभावित लोगों से मिलने गए थे। राज्यपाल जगदीप धनकड़ ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का नाम लिए बिना अपनी खिसियाहट पश्चिम बंगाल सरकार पर उतारी।

राज्यपाल ने कहा कि यह कानून के शासन का पतन है। मैं इसकी कभी कल्पना भी नहीं कर सकता था। मैंने लोगों की आंखों में पुलिस का खौफ देखा है, वे पुलिस के पास जाने से डरते हैं, उनके घर लूटे गए। मैं वास्तव में हैरान हूं, यह लोकतंत्र का विनाश है।

ये भी पढ़ें:  अमित शाह आप जहां दिल्ली में बैठते है वो अपराध में अव्वल नंबर पर आता है: तेजस्वी

उन्होंने कहा कि लोगों ने अपने घर छोड़ दिए हैं और जंगलों में रह रहे हैं। महिलाएं मुझसे कहती हैं कि वे (गुंडे) एक बार फिर वहां आएंगे और राज्यपाल के सामने सुरक्षा की ऐसी विफलता है। मैं इस पर हैरान हूं। मैं कल्पना कर सकता हूं कि यहां के लोगों को क्या करना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि चुनावों के दौरान मुख्यमंत्री का व्यवहार उचित नहीं था। यह लोकतंत्र के सिद्धांतों के खिलाफ था।

गौरतलब है कि विधानसभा चुनाव के चौथे चरण के दौरान 10 अप्रैल को केंद्रीय अर्धसैनिकों बलों की गोली से जोरपातकी में चार लोगों की मौत हुई थी, वहां पर भी राज्यपाल के दौरे की आलोचना करने वाले पोस्टर दिखाई दिए। सीतलकूची में पहली बार मतदान करने आए एक मतदाता की मौत मतदान केंद्र पर कतार में खड़े होने के समय हो गई थी।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें