ऑक्सीजन की कमी पर बीजेपी सांसद ने जताई नाराज़गी, कहा, ‘सरकार ने नहीं की परवाह’

नई दिल्ली। देश में कोरोना महामारी के बीच ऑक्सीजन की किल्ल्त को लेकर बीजेपी सांसद सुब्रमणियम स्वामी ने अपनी ही पार्टी की सरकार को कटघरे में खड़ा किया है। सुब्रामियम स्वामी ने सरकार की तरफ से ऑक्सीजन को लेकर आ रहे बयानों पर भी सवाल खड़े किये हैं।

उन्होंने ट्वीट कर कहा कि ‘सरकार को यह कहना बंद कर देना चाहिए कि कितना ऑक्सीजन हमारे पास उपलब्ध है। बल्कि यह कहना चाहिए कि कितनी हमने सप्लाई की है और किन-किन अस्पतालों में इसे भेजी गई।’

इतना ही नहीं सुब्रमणियम स्वामी ने कहा कि ‘पिछले साल अक्टूबर में ही स्टैंडिंग कमेटी फॉर हेल्थ ने यह चेताया था कि ऑक्सीजन सिलेंडर और सप्लाई की भारी किल्लत है। सरकार ने उसकी कोई परवाह नहीं की।’

गौरतलब है कि पिछले साल स्वाथ्य मामलो की संसदीय समिति ने सरकार को चेताया था कि कोरोना की दूसरी लहर ध्यान में रखकर तैयारी किये जाने की आवश्यकता है। स्टेंडिंग कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में सरकार को सलाह दी थी कि कोरोना महामारी को ध्यान में रखते हुए देश में ऑक्सीजन के प्रोडक्शन और इसके भंडारण की क्षमता बढ़ाये जाने की आवश्यकता है।

ये भी पढ़ें:  गडकरी के बाद आरएसएस ने माना "देश में आर्थिक असमानता, सब कुछ ठीक नहीं है"

इतना ही नहीं स्टेंडिंग कमेटी ने सरकार से कहा कि स्वास्थ्य सेवाओं में विस्तार की आवश्यकता है। कोरोना महामारी को ध्यान में रखते हुए अस्पतालों में बैडो, वेन्टीलेटरो सहित आवश्यक चीजों की तादाद बढ़ाई जानी चाहिए।

स्टेंडिंग कमेटी की रिपोर्ट के बावजूद सरकार ने इस दिशा में कोई ठोस काम नहीं किया। आज कोरोना महामारी की दूसरी लहर में देश के कई राज्यों में ऑक्सीजन की किल्ल्त का सामना करना पड़ रहा है।

वहीँ इस बीच देश में प्रतिदिन कोरोना संक्रमित नए मामलो में बढ़ोत्तरी हो रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, पिछले 24 घंटे में देश में 3,68,147 नए मामले आने के बाद कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या 1,99,25,604 हुई। 3,417 नई मौतों के बाद कुल मौतों की संख्या 2,18,959 हो गई है। देश में सक्रिय मामलों की कुल संख्या 34,13,642 है और डिस्चार्ज हुए मामलों की कुल संख्या 1,62,93,003 है।

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के मुताबिक भारत में कल तक कोरोना वायरस के लिए कुल 29,16,47,037 सैंपल टेस्ट किए जा चुके हैं, जिनमें से 15,04,698 सैंपल कल टेस्ट किए गए।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें