Bihar : बिहार के कई जिलों में बिजली गिरने से 18 लोगों की हुई मौत

 

बिहार : मौसम बदलने की वजह से एक तरफ जहां लोगों को राहत मिली है. वहीं दूसरी तरफ मौसम बदलने की वजह से ठनका कहर बन कर बरपा है. पिछले 24 घंटे में राज्य में ठनका से 10 लोगों की मौत हो गई है

बिहार के कई जिलों में अचानक मौसम बदलने की वजह से कई लोग वज्रपात की चपेट में आ गए. बिहार में वज्रपात से सोमवार को 18 लोगों की मौत हुई है. आपदा प्रबंधन विभाग के मुताबिक पूर्णिया में चार, सुपौल में तीन, अररिया में चार, बांका में एक, बेगूसराय में एक, शेखपुरा में एक, जमुई में दो, नवादा में एक और सारण में एक व्यक्ति की मौत हुई है. विभाग को इनकी मौत के संबंध में संबंधित जिलों से सूचना दी गयी है

सुपौल में दो लोगों की मौत

ठनका गिरने से सुपौल में 2 लोगों की मौत हो गयी है. पहली घटना त्रिवेणीगंज थाना क्षेत्र की है जहां खेत में घास काटने दौरान अचानक ठनका गिरने से राधा देवी घायल हो गई. वहीं दूसरी घटना थाना क्षेत्र के प्रतापपुर झरकहा चौक की है जहाँ बारिश के दौरान घर से बाहर निकला एक 15 वर्षीय युवक ठनका की चपेट में आ गया.
बेगूसराय में एक की मौत

ये भी पढ़ें:  अंकिता भंडारी हत्याकांड : अंकिता के परिजनों ने अंतिम संस्कार से किया इनकार, कहा?

शेखपुरा में एक महिला तो बांका में एक किसान को ठनका ने अपना शिकार बनाया. इसके अलावा नवादा में भी वज्रपात से एक महिला की मौत हो गई है. वहीं बेगूसराय में ठनका की चपेट में आने से एक व्यक्ति की मौत हो गई वहीं दो छात्र गंभीर रूप से झुलसने की वजह से घायल हो गए. घायलों को परिजनों ने अस्पताल में भर्ती कराया है जहां उनका इलाज चल रहा है.
काफी देर तक रहा अफरा-तफरी का माहौल

बेगूसराय में वज्रपात की घटना के बाद काफी देर तक अफरा-तफरी का माहौल उत्पन्न हो गया. घटना मुफस्सिल थाना क्षेत्र के पसपुरा तीन मुहानी के समीप की है. मृतक व्यक्ति की पहचान सिंघौल थाना क्षेत्र के वार्ड नंबर 06 डुमरी के रहने वाले 55 वर्षीय नंदलाल साह के रूप में हुई है, जबकि घायल छात्र की पहचान डुमरी गांव के रहने वाले रामाश्रय पंडित के 16 वर्षीय पुत्र अजीत कुमार एवं जितेंद्र कुमार के 16 वर्षीय पुत्र ऋषिकेश अंशु के रूप में की गयी है

परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल

वज्रपात की इस घटना में मृत हुए लोगों के शरीर को पुलिस ने अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भेज दिया है. और आगे की कार्रवाई में जुट गई हैं. वहीं दूसरी तरफ इस घटना के बाद से मृतकों के परिवार का रो रोकर बुरा हाल हो गया है

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें