प्रदेश में हाहाकार लेकिन योगी सरकार केंद्र सरकार की तारीफ़ करने में व्यस्त: अखिलेश

लखनऊ। समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने एक बार फिर सरकारी बदइंतजामियों को लेकर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में कोरोना और ब्लैक फंगस के इलाज में अव्यवस्थाएं छुपाए नहीं छुप रही हैं। अभी भी रोज मौते हो रहीं हैं। दवा, इंजेक्शन, समय से इलाज के अभाव के साथ इनकी कालाबाजारी पर सरकार रोक नहीं लगा पायी।

अखिलेश यादव ने कहा कि कोरोना महामारी और ब्लैक फंगस के आतंक के बीच भी भाजपा सरकार सच को पूरी तरह नकारने, जनता में भ्रम फैलाने और झूठी वाहवाही लेने का कोई मौका नहीं छोड़ना चाहती है।

उन्होंने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ‘जहां बीमार वहीं उपचार’ का नया नारा लेकर आ गए हैं। सात वर्ष में बहुत काम होने का प्रशस्ति मेडल भी उन्होंने खुद अपने नाम कर लिया है।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मजबूरी हाँ में हाँ मिलाने की है। शहर से गांव तक पूरे राज्य में चिकित्सा व्यवस्था बर्बाद करने के बाद भी बधाई का आदान प्रदान चलता रहता है। भाजपा की सोची समझी रणनीति के तहत ऐसा किया जा रहा है ताकि जनता भ्रम में रहे और बिना उपचार हो रही बेमौतों पर पर्दा पड़ा रहे।

ये भी पढ़ें:  आज़म खान की मुश्किलें बढ़ीं, जौहर यूनिवर्सिटी की खुदाई में मिली नगर पालिका की मशीन

उन्होने कहा कि श्री योगी की माने तो आंकड़ों और जुबानी दावों के साथ प्रदेश में कोरोना संक्रमण, ब्लैक फंगस और टीकाकरण सभी क्षेत्रों में हवाई कन्ट्रोल हो चुका है जबकि शहरों के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में भी स्वास्थ्य सेवाओं पर बदइंतजामी का ताला पड़ा हुआ है। दवा, इलाज के लिए हाहाकार मचा है। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी मान लिया है कि महाराष्ट्र और राजस्थान जैसे राज्यों से भी कोरोनारोधी टीकाकरण के मामलों में उत्तर प्रदेश बहुत पीछे है। कागजों पर इलाज, जमीन पर बेइलाज यही प्रदेश की नियति हो गयी है।

सपा अध्यक्ष ने कहा कि कोरोना महामारी का अगला दौर और ज्यादा संघातक होने और बच्चों तक इसके फैलने से बचाव के लिए टीकाकरण अभियान का भी भाजपा सरकार ने मजाक बना दिया है। टीकाकरण की नीति की अस्पष्टता, पंजीकरण में बाधाएं, फिर सेंटरों पर टीका नहीं होने की दुर्व्यवस्था से जनता परेशान है।

उन्होने चेतावनी भरे लहजे में कहा कि अभी भी समय है भाजपा सरकार लोकतंत्र की मूल भावना का पालन करते हुए विपक्ष के सुझावों पर भी ध्यान दे। सरकारी व्यवस्था में जो कमियां उजागर हो रही है, उनके प्रति सकारात्मक रुख अपनाए। विपक्ष को बदनाम करने और अपने झूठ पर पर्दा डालने की उसकी रीति नीति से प्रदेश में बड़ी संख्या में लोगों की जिंदगी खतरे में पड़ी है। आज भी हजारों लोग इलाज की दो बूँद के लिए तरस रहे हैं। न दवा, न बेड, न टेस्ट, न वैक्सीन भाजपा के कारण यही नियति है। गांवों में लोग बुखार में तप रहे हैं। जनता अब यूपी से भाजपा को हटाने के इंतजार में है।

ये भी पढ़ें:  राहुल गांधी का बड़ा वादा: गुजरात में सरकार बनी तो बहाल करेंगे पुरानी पेंशन योजना

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें